रैडिकल हीलिंग पद्धति द्वारा करिए अपना विकास “आत्मन” के साथ

0
490

आज हम लेकर आये हैं आपके समक्ष महिला उद्यमी “आत्मन” की कहानी जो रैडिकल हीलिंग पद्धति द्वारा कर रही हैं आपके व्यक्ति, व्यक्तित्व, व्यापार, जीवन का विकास.

सामान्यतया लोग भातिक सम्पदा अर्जित करने के लिए उद्यमिता को अपनाते हैं. किन्तु कुछ उद्यमी अपने उत्साह को सही दिशा देने एवं अन्य लोगों को उत्साहित करने के लिए भी उद्यमिता को अपनाते हैं. ऐसे उद्यमी अपने उत्साह को व्यवस्थित रूप में उत्तरोत्तर विकास मार्ग पर ले जाते हैं. आज हम आपको मिलवा रहे हैं एक ऐसी ही महिला उद्यमी “आत्मन” से जिन्होंने अपने जुनून को ही अपने उद्यम के रूप में अपनाया.

आत्मन

आत्मन का जन्म एक पारम्परिक गुजराती परिवार में हुआ था. पिछली दो पीढ़ियों से उनका परिवार आर्थिक प्रबंधन के क्षेत्र में शामिल था, आत्मन के पिता और उनके दादा जी दोनों ही सफल चार्टर्ड एकाउंटेंट थे, अतः आर्थिक प्रबंधन तो उन्हें लगभग विरासत में ही प्राप्त हुआ था. आत्मन ने होमोपैथी चिकित्सा में स्नातक किया और 12 वर्ष एक चिकित्सक के रूप में काम करती रहीं. उनकी जिज्ञासु प्रवृत्ति और आध्यात्म में भी उनकी रूचि होने की वजह होने के कारण वे हर स्वास्थ्य समस्या को भी वृहद् रूप में देखती थीं. आत्मन अपने नाम को सार्थक करते हुए, आत्मा से ही समाधान पर भी काम करती रही. हर स्वास्थ्य समस्या को समग्र रूप से लेते हुए अवचेतन – मन-मस्तिष्क का स्वास्थ्य, रिश्तों, व्यक्तिगत, वित्तीय दशा साथ ही साथ उद्यमिता एवं पेशेवर जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता है, आत्मन ने इसका भी अध्ययन किया. वो स्पष्ट रूप से लोगों को समझाती हैं कि किस प्रकार समस्या की जड़ अस्वास्थ्कर मन मस्तिष्क के विकृत विचारों एवं विश्वासों को किस प्रकार चिन्हित किया जा है और उन्हें व्यक्तिगत एवं व्यावसायिक सकारात्मक परिणामों के लिए प्रभावी ढंग से कैसे संशोधित किया जा सकता है.

आत्मन ने अपने चतुर व्यावसायिक विवेक से आमनीप्रजेंस एकेडेमी ऑफ़ लाइफ प्राइवेट लिमिटेड की स्थापना की. उन्होंने एक ऐसे कार्यक्रम की रचना की जो लोगों को विकारी मन मस्तिष्क में सकारात्मक परिवर्तन हेतु प्रशिक्षित करे और ये प्रशिक्षित लोग आगे और भी लोगों को प्रशिक्षित करें. अहमदाबाद स्थित अपने कार्यालय से वे सम्पूर्ण भारत में अपनी सेवाएं प्रदान कर रही हैं. वे स्वयं इन प्रशिक्षण कार्यक्रमों के लिए काफी भ्रमण करती हैं. अपनी पहुँच को और बढ़ाने के लिए उन्होंने तकनीकि का इस्तेमाल भी किया और http://www.redikallhealing.com नाम से उनकी वेबसाइट देखी जा सकती है. रेडिकल हीलिंग पद्धति को आत्मन ने कॉपीराइट करा भी रखा है. इस प्रशिक्षण से केवल भौतिक शरीर ही नहीं वरन जीवन की विभिन्न अवस्थाओं तथा चारो ओर के वातावरण एवं परिस्थितिओं से सर्वोत्तम परिणाम प्राप्ति हेतु सक्षम बनाया जाता है. अपने संस्थागत आयोजनों द्वारा लोगों का पुनरुत्थान, पुनर्चिकित्सा तथा तनाव ही न करने का कार्य भी करते हैं. इन आयोजनों में समाज के विभिन्न वर्ग के लोग शामिल होते हैं तथा इनके अनुभवों से लाभान्वित होते हैं.

बेंगलुरु का एक “ब्रिलियंट औरा रीडर्स बैच” जिसे आत्मन ने प्रशिक्षित किया है

आत्मन ने शीर्ष उद्योगपतियों, बॉलीवुड अभिनेताओं सहित देश के बहुत से शीर्ष नेतृत्व में संलग्न लोगों को प्रशिक्षित किया है. उन्होंने इनकी मानसिक, भावनात्मक, शारीरिक तथा वित्तीय समस्यायों को कम करने हेतु कार्य किया है. भौतिकता एवं आध्यात्मिकता का अनूठा सम्मिश्रण ही उनके व्यावसायिक दृष्टिकोण का “हालमार्क” है. ये तर्क, अंतर्ज्ञान, ढांचागत प्रवाह एवं आधुनिक तकनीक को प्राचीन ज्ञान से प्रभावी ढंग से जोड़ती हैं.

अपने कार्यों से इन्होंने यह दर्शाया है कि आप विचार परिवर्तन से अपने व्यवसाय की गति को किस प्रकार बदल सकते हैं क्योंकि आपके व्यवसाय में आपके विचार परिलक्षित होते हैं. जब आप विचार बदलते हैं तब व्यवसाय की गतिशीलता भी बदल जाती है. इस पूरी पद्धति में सर्वाधिक महत्वपूर्ण व्यक्तिगत एवं सटीक समस्यायों की पहचान करना उन्हें सम्बोधित करना है. ये विचार और विश्वास ही हैं जो आपकी गति को धीमी करते हैं तथा उत्साही विचारों को प्रोत्साहित करते हैं. ये आपके व्यक्तित्व के साथ पूर्ण एकीकृत तथा परिवर्तनकारी प्रवृत्ति के होते हैं.

आत्मन को एक लेखक, संगठित प्रशिक्षणकर्ता, कॉर्पोरेट ट्रेनर, संरक्षक, कार्यशाला सुविधा प्रदाता तथा उद्यमी के रूप में जानता है. उनके निकटस्थ लोग उन्हें एक आदर्श बेटी, मित्रवत माँ, भरोसेमंद मित्र तथा समर्पित नागरिक के रूप में जानते हैं.

 

ऐसी ही स्टार्टअप एवं उद्यमिता से जुडी कहानियां पढ़ने के लिए पढ़ते रहिये उद्यमितासमाचार.कॉम. उद्यमिता की अपनी कहानी भी आप यहाँ पढ़ सकते हैं, हमें लिखें editor@udyamitasamachar.com पर. आप फेसबुक, ट्विटर इत्यादि पर  भी हमसे जुड़ सकते हैं.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here